बुधवार, 26 मई 2010

अवकाश

सबसे मिलकर
एक बार फिर से जाना है/
अपनी जिज्ञासा का उदगम मुझमे,
समाधान भी मुझमे,
और मुझमे ही ठिकाना है/
जीवन की राह पर
ऐडा टेढ़ा चलना रोमांच बढ़ाता  है/
पर कोल्हू का बैल
आगे कब बढ़ता है?
बस चलता जाता है/
पाँव जमी पर रक्खें,
और मुट्ठी में आकाश ले लें/
चलो खुद से मिल लें और
दुनिया से अवकाश ले लें/

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर पवन जी.....
    सरल शब्दों में बड़ी प्रेरणादायी कविता लिखी है आपने...
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूबसूरती से गढा है जिंदगी का फलसफा

    उत्तर देंहटाएं
  3. सार्थक शब्दों से परिपूर्ण रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं